ऑर्गेनिक सब्जियों की करें खेती


नई दिल्ली: अगर आप खेती के बारे में जानते हो तो अब अपने घर की छत से भी कमाई कर सकते हैं. आज हम आपको एक ऐसे बिजनेस के बारे में बताएंगे, जिसको आप अपने घर की छत पर ही शुरू कर सकते हैं और सबसे खास बात ये है कि इसके लिए आपको बहुत ज्यादा पैसे और जगह की भी जरूरत नहीं होगी. साथ ही इस फार्मिंग के बिजनेस के लिए आपको किसी भी तरह की टेक्निकल नॉलेज की भी जरूरत नहीं है. मतलब अगर आपको खेती की थोड़ी भी समझ है तो आप हर महीने मोटी कमाई कर सकते हैं. आइए आपको बताते हैं कैसे-

अरुण अरोड़ा ने घर से शुरू किया ये बिजनेस
आपको बता दें अजमेर के अरुण अरोड़ा ने अपने घर की छत पर एक ऐसा ही बिजनेस शुरू किया है. इसमें कमाई के साथ-साथ आपके घरवालों को भी ऑर्गेनिक सब्जियां खाने को मिलेंगे जो आपके स्वास्थ्य को ठीक रखने के साथ-साथ कमाई का भी बढ़िया जरिया है. अरुण अरोड़ा अपनी छत पर देसी सब्जियों के साथ-साथ विदेशी सब्जियों को भी उगा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: आम आदमी के लिए खुशखबरी, अफगानिस्तान से प्याज खरीदेगी सरकार, जानिए कितने कम होंगे दाम!बिना मिट्टी के कर सकेंगे खेती

इसका नाम हाइड्रोपोनिक खेती है यह इजरायली टेक्नोलॉजी पर बेस्ड है. सबसे खास बात ये है कि इस खेती के लिए आपको मिट्टी की जरुरत नहीं होगी. यानी आप पानी की मदद से ही ये खेती कर सकेंगे.

खाद्य की जगह इस्तेमाल करें कोकोपीट
आपको बता दें इस खेती में खाद्य की जगह परसूखे नारियल के छिल्कों को कोकोपीट के रूप में इस्तेमाल किया जाता है और उसमें ही सब्जियां उगाई जाती हैं.

पानी नहीं होता बर्बाद

इस खेती में पानी बिल्कुल भी बर्बाद नहीं होता है और दूसरी खेती की तुलना में सिर्फ 10 फीसदी पानी का ही इस्तेमाल होता है.

इन सब्जियों की खेती कर सकते हैं
पालक, मेथी और पुदीना, बैंगन, चैरी टमाटर, भिंडी, फूलगोभी, शिमला मिर्च, देसी टमाटर और तोरी जैसी कई तरह की सब्जियों की खेती कर सकते हैं.

आर्गेनिक खेती को बढ़ावा दे रही सरकार
आर्गेनिक खेती (Organic Farming) को बढ़ावा देने पर उनकी सरकार लगातार जोर दे रही है. लेकिन ज्यादातर किसानों को इसे लेकर कोई ठोस जानकारी नहीं है कि आखिर आर्गेनिक खेती कैसे होगी. उसके लिए सर्टिफिकेट कहां से मिलेगा और इसका बाजार क्या है? ऐसी खेती के लिए जरूरी चीजें कहां से मिलेंगी. इन सवालों का जवाब अब एक ही जगह मिलेगा. सरकार ने किसानों की सहूलियत के लिए जैविक खेती पोर्टल (https://www.jaivikkheti.in/) विकसित किया है, जिसकी आप मदद ले सकते हैं. कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के मुताबिक केंद्र सरकार परंपरागत खेती को बढ़ावा देने के लिए 2015-16 से 2019-20 तक 1632 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं.

यह भी पढ़ें: क्या आपने भी मोरेटोरियम पीरियड में भरी थी EMI? अब बैंक आपके खाते में डालेंगे इतने पैसे!

सरकार ने बनाई PKVY योजना
सरकार ने आर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने के लिए PKVY (Paramparagat Krishi Vikas Yojana) बनाई है. जिससे आपको प्राकृतिक खेती के लिए प्रति हेक्टेयर 50 हजार रुपये मिलेंगे.





Source link