बच्चों के बाल झड़ने से हैं परेशान? इन घरेलू उपायों से मिलेगी राहत


Hair Loss in Children: बालों का झड़ना हर किसी के लिए समस्या होता है. चाहे वह लड़का हो या लड़की. आजकल का प्रदूषण भरा माहौल सबसे ज्यादा हमारी त्वचा (Skin) और बालों (Hair) को नुकसान पहुंचाता है. इसके अलावा दूषित जल पीने और नहाने से भी यह समस्या बढ़ती है. वयस्क इस समस्या का अधिकतर सामना करते हैं. लेकिन कम उम्र में बच्चे का बाल झड़ना उनके पैरेंट्स (Parents) के लिए चिंता का विषय बन जाता है.

विशेषज्ञ बताते हैं कि दो-तीन वर्षों तक हर महीने एक व्यक्ति के बाल लगभग एक सेंटीमीटर बढ़ते हैं, उसके बाद वे विश्राम की अवस्था में आ जाते हैं. विश्राम की अवस्था में आने के बाद, बाल गिरने लगते हैं ताकि नए बाल उग सकें. ऐसे में बच्चों के 50 से 100 बाल हर दिन गिर जाते हैं. हां, जब इससे भी अधिक बाल गिरें, तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. ऐसा होने पर आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

बाल झड़ने के कारण
फैशन और स्टाइल के लिए टीनएजर्स बाल रंगते हैं. बालों को रंगना, ब्लीच करना या सीधे और घुंघराले करना भी बालों के झड़ने का कारण हो सकता है. हेयर ड्रायर के प्रयोग से भी बच्चे के बालों पर बुरा असर पड़ता है. साथ ही साफ-सफाई और तेल नहीं लगाने से भी बाल कमजोर होकर झड़ने लगते हैं.बच्चों में एक अलोपेसिया (Alopecia) बीमारी हो सकती है, जिसके कारण बाल झड़ते हैं. इसका समय पर उपाचर कराना जरूरी है वरना बाल दोबारा पैदा नहीं होते. टेलोजन एफ्लूवीअम (Telogen effluvium) होने से भी बच्चों के बाल झड़ने लगते हैं. कई बार अचानक किसी सदमे, आघात, भावनात्मक परेशानियों, तेज बुखार से भी बच्चों के बाल झड़ने लगते हैं. हालांकि, बालों की पुटिकाएं लचीली होती हैं, पर जब टेलोजन एफ्लूवीअम आक्रमण करता है तो बालों के दोबारा पैदा करने की फॉलिकल्स की योग्यता पर स्थायी रूप से असर पड़ता है.

बच्चों में आंशिक रूप से बालों के झड़ने की अवस्था को त्रिकोटिलोमेनिया कहते हैं. इस अवस्था में बाल असमान रूप से झड़ते हैं और गंभीर मामलों में यह अवस्था भौहों पर भी असर कर सकती है. ऐसा तब होता है, जब बच्चे में किसी घबराहट, डर के कारण अपने ही बाल नोचने की उत्तेजना पैदा होती है.

बच्चों के बाल झड़ने से रोकने के घरेलू उपचार

1. भृंगराज तेल: भृंगराज तेल में मौजूद मेथनॉल नामक पोषक तत्व बालों के विकास को आसान बनाने में मदद कर सकता है. इसके तेल से नियमित मालिश स्कैल्प के रक्त संचार में मदद कर सकती है. यह तत्व बालों की जड़ तक जाता है और बालों को मजबूत करने के साथ ही बालों को झड़ने से भी रोकता है.

2. आंवला: इसमें विटामिन-सी के साथ-साथ क्वेरसेटिन जैसे कई पॉलीफेनोलिक यौगिक होते हैं. इन पोषक तत्वों से भरपूर आंवला बालों को मजबूती प्रदान के करने के साथ ही उनके विकास में मदद करता है. इसके अलावा, यह बालों को सफेद होने और झड़ने से रोकता है.

3.प्याज का रस: प्याज के रस का उपयोग कर आप न सिर्फ बालों के विकास को बढ़ाते हैं, बल्कि उन्हें टूटने से रोकते भी हैं. इसमें क्वेरसेटिन (quercetin) नाम का घटक पाया जाता है, जो बालों के विकास के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है.

4.बादाम का तेल: बादाम से आप बालों को झड़ने से रोक सकते हैं. बादाम का तेल विटामिन-डी और ई के साथ-साथ कैल्शियम, मैग्नीशियम और आयरन से भरपूर होता है. बादाम के तेल में पाए जाने वाले ये पोषक तत्व आपके बालों को झड़ने से बचाने के साथ ही उनके विकास में मदद कर सकते हैं.

5. नारियल का तेल: नारियल का तेल हर घर में आसानी से मिल जाता है. इससे सिर की मसाज करने से बालों को झड़ने से रोकने के साथ ही स्कैल्प के संक्रमण को दूर करने में भी मदद मिल सकती है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)





Source link