शिमला में ऐतिहासिक रिज मैदान के नीचे पानी के टैंक मिलीं 2 से 6 एमएम मोटी दरारें 


शिमला में रिज मैदान के नीचे है पानी का टैंक.

Ridge water Tank issue: बता दें कि अंग्रेजों के जमाने का वॉटर स्टोरेज टैंक रिज मैदान के बीचोंबीच स्थित है, जिसमें हर वक्त करीब 5 एमएलडी पानी को स्टोर करने की क्षमता है.

शिमला. हिमाचल प्रदेश के शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान पर स्थित ब्रिटिशकालीन वाटर स्टोरेज टैंक के भीतर 2 से 6 एमएम मोटी दरारें देखी गई हैं. यह दरारें टैंक के भीतर चल रहे रिपेयर के दौरान मिली हैं. टैंक के भीतर नौ में से पांच चैंबरों तक दरारें देखी गईं हैं, जिसका कार्य करने के लिए विशेषज्ञ की राय ली जा रही है.दरारों को आधुनिक तकनीक से भरने के लिए अब पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज के विशेषज्ञयों की राय ली जाएगी, जो जल्द ही शिमला का दौरा करेगी. बता दें कि भले ही टैंक की दरारों को भरने का कार्य दिल्ली की कंपनी कर रही है, लेकिन आधुनिक तरीके से इन दरारों को दुरुस्त करने के लिए कई एक्सपर्ट की राय ली जा रही है.

दरारों को भरने में लिए विशेषज्ञयों की ली जाएगी राय

जल निगम के एजीएम महमूद शेख ने बताया कि 1924 में निर्मित वाटर स्टोरेज में पड़ी दरारों को भरने में लिए करीब एक करोड़ 80 लाख रुपए खर्च किए जा रहे हैं जिसे आधुनिक तकनीक से भरा जा रहा है.उन्होंने बताया कि टैंक के भीतर ज्यादा मोटी दरारें नहीं हैं लेकिन फिर भी 2 से 6 एमएम मोटी दरारें हैं. जिन्हें भरा जा रहा है .

ऐसे भरी जाएंगे दरारेंदरारों को भरने के लिए आधुनिक तकनीक से पौली यूरिया मेम्ब्रेन की स्प्रे और माइक्रो कंक्रीट फाइबर से कार्य किया जाएगा. साथ ही प्लास्टर चुना सुर्खी से दरारों को भरा जाएगा, ताकि उसी रुप मे इसे अंजाम दिया जा सके.

अंग्रेजी काल में बना था टैंक

बता दें कि अंग्रेजों के जमाने का वॉटर स्टोरेज टैंक रिज मैदान के बीचोंबीच स्थित है, जिसमें हर वक्त करीब 5 एमएलडी पानी को स्टोर करने की क्षमता है. यहां से शहर के पॉश क्षेत्रों यूएस क्लब, राम बाज़ार,लोअर बाज़ार और चौड़ा मैदान और नाभा, फागली, टूटीकंडी,रामनगर, कृष्णा नगर ,कैथू क्षेत्रों में वितरित किया जाता है.टैंक के भीतर नौ चेंबर हैं, जिसमें चार चेंबर में दरारें पड़ चुकी हैं. साल 2017 में पहली बार इस टैंक के भीतर टैंक की सफाई के दौरान दरारें नजर आई थी. इसके बाद निगम ने इन दरारों पर ज्यादा गम्भीरता नहीं दिखाई थी. अब जाकर शिमला जल निगम ने संज्ञान लिया है.





Source link