US सीनेट पर डेमोक्रेट्स का कब्जा तय: जॉर्जिया से पहली बार अश्वेत सीनेटर चुना गया, चर्च में पादरी राफेल वारनॉक जीते

वॉशिंगटन11 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

राफेल वारनॉक जॉर्जिया के साथ ही साउथ अमेरिका से सीनेटर चुने जाने वाले पहले अश्वेत हैं।

जॉर्जिया में सीनेट की दो सीटों पर हुए चुनाव के बाद काउंटिंग चल रही है। इनमें एक पर डेमोक्रेटिक पार्टी के राफेल वारनॉक की जीत तय हो गई है। दूसरी पर कड़ा मुकाबला चल रहा है। यहां पार्टी के जॉन ओसोफ मामूली अंतर से आगे हैं। ये दोनों सीट जीतने से सीनेट पर डेमोक्रेट्स का कब्जा हो जाएगा।

इन सीटों के लिए मंगलवार को वोटिंग हुई थी। बुधवार को काउंटिंग के दौरान नतीजों की तस्वीर साफ हो गई। राफेल वारनॉक जॉर्जिया के साथ ही साउथ अमेरिका से सीनेटर चुने जाने वाले पहले अश्वेत बन गए। वह अटलांटा की एक चर्च में पादरी हैं। उन्होंने रिपब्लिकन केली लोफ्लर को हराया। राफेल को 22 लाख 23 हजार 649 यानी 50.6% वोट मिल चुके हैं।

अगर दूसरी सीट भी डेमोक्रेटिक पार्टी के पास आ जाती है तो उसे सीनेट में बहुमत मिल जाएगा। इससे उसके सदस्यों की संख्या 50 हो जाएगी। कमला हैरिस के वाइस प्रेसिडेंट इलेक्ट बन जाने के कारण सीनेट पर डेमोक्रेट का कब्जा होना तय है। ऐसा इसलिए क्योंकि टाई होने की स्थिति में वाइस प्रेसिडेंट के वोट से ही फैसला होता है।

रिपब्लिकन पार्टी का गढ़ छिना

जॉर्जिया को रिपब्लिकन पार्टी का गढ़ माना जाता रहा है। यहां 1992 से पार्टी कभी नहीं हारी थी। इस बार पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प डेमोक्रेट जो बाइडेन से महज 11,779 से हार गए। वारनॉक की जीत डेमोक्रेटिक पार्टी के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। जॉर्जिया में 2000 के बाद पहली बार कोई डेमोक्रेट सीनेटर चुना गया है।

ट्रम्प पर वोट के लिए दबाव डालने का आरोप

राष्ट्रपति चुनाव में धांधली का आरोप लगाने वाले डोनाल्ड ट्रम्प खुद जॉर्जिया में हेराफेरी की कोशिश में उलझ गए थे। हाल में अमेरिका मीडिया में ट्रम्प का एक फोन कॉल सामने आया था। इसमें वे जॉर्जिया के सेक्रेटरी ऑफ स्टेट ब्रैड रैफेंसपर्गर से कह रहे हैं कि वे उनकी जीत के लिए जरूरी 11,780 अतिरिक्त वोटों का इंतजाम करें।

Source link