World Tourism Day 2020: विश्व पर्यटन दिवस क्यों मनाते हैं? जानें थीम, इतिहास और महत्व


विश्व पर्यटन दिवस मनाने के बारे में रोचक बातें जानें

वर्ल्ड टूरिज्म डे (World Tourism Day 2020): आज का दिन घुमक्कड़ों के लिए बेहद ख़ास है. हालांकि कोरोना काल में यात्रा करना और टूर के प्लान बनाना सेफ नहीं है. लेकिन बाद में तो यात्राएं जारी रहेंगी. यात्राएं सुकून देती हैं और इसका रोमांच ही अलग है…


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 27, 2020, 1:30 PM IST

वर्ल्ड टूरिज्म डे (World Tourism Day 2020): आज वर्ल्ड टूरिज्म डे है. वर्ल्ड टूरिज्म डे पर सैलानियों को टूरिज्म के प्रति जागरूक करने के लिए कई अभियान चलाए जाते हैं. हालांकि अभी कोरोना काल में भले ही यात्रा करना और टूर के प्लान बनाना थोड़ा सेफ न हो. लेकिन कोरोना के बाद तो यात्राएं जारी रहेंगी. यात्राएं सुकून देती हैं और घुमक्कड़ों के लिए यात्राओं का रोमांच ही अलग है. प्रसिद्ध लेखक राहुल सांकृत्यायन ने भी लिखा है- ‘सैर कर दुनिया की गाफिल, जिंदगानी फिर कहां, जिंदगानी गर रही तो, नव जवानी फिर कहां. लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि आखिर
वर्ल्ड टूरिज्म डे का इतिहास क्या है, वर्ल्ड टूरिज्म डे मनाने की शुरूआत कब हुई और इसका महत्व क्या है…

इसे भी पढ़े: World Tourism Day: डलहौजी में है भारत का मिनी स्विट्जरलैंड, बादलों के बीच घर, बर्फ और वादियां

विश्व पर्यटन दिवस की थीम:हर साल विश्व पर्यटन दिवस अलग अलग थीम के आधार पर मनाया जाता है. साल 2020 में विश्व पर्यटन दिवस की थीम है -पर्यटन और ग्रामीण विकास (Tourism and Rural Development). इससे बड़े शहरों के बाहर पर्यटन को बढ़ावा देना और दुनिया भर में सांस्कृतिक और प्राकृतिक विरासत को संरक्षित करने में पर्यटन की अनूठी भूमिका बनाना है.

विश्व पर्यटन दिवस मनाने का उद्देश्य?
विश्व पर्यटन दिवस मनाने का उद्देश्य है कि पर्यटन से रोजगार पैदा करना है. विश्व पर्यटन दिवस लोगों में टूर एंड ट्रेवल के प्रति उत्साह बढ़ाने और लोगों में पर्यटन के प्रति रुझान पैदा करने के उद्देश्य से मनाया जाता है. कुछ देशों और राज्यों की आर्थिक स्थिति काफी कुछ पर्यटन पर ही निर्भर होती है. ऐसे में विश्व पर्यटन का उद्देश्य टूरिस्ट का ध्यान खींचना होता है.

विश्व पर्यटन संगठन का इतिहास:
1980 के बाद से, संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन ने 27 सितंबर को विश्व पर्यटन दिवस को अंतर्राष्ट्रीय पर्यवेक्षण के रूप में मनाया है. इस तिथि को 1970 में उस दिन के रूप में चुना गया था, जब यूएनडब्ल्यूटीओ के तरीकों को अपनाया गया था. ग्लोबल टूरिस्म के लिए ये तरीके मेल के पत्थर से कम नहीं हैं.





Source link